अश्वगंधा के सेवन के क्या हैं साइड इफेक्ट्स | Side Effects of Ashwagandha in Hindi

अश्वगंधा एक आयुर्वेदिक औषधी है, जिसका इस्तेमाल तनाव और चिंता को दूर करने के लिए किया जाता है. हालांकि, इस औषधी को खाने के कुछ साइड इफेक्ट्स भी हो सकते हैं. इसके हाइपोग्लाइसेमिक और इम्यूनोमॉड्यूलेटरी गुण ऑटोइम्यून बीमारी या एलर्जी के साथ प्रतिकूल प्रभाव पैदा कर सकते हैं. जड़ी बूटी गर्भपात का कारण भी बन सकती है. इस पोस्ट में, हमने इन प्रभावों के बारे में विस्तार से चर्चा की है.

अश्वगंधा के हो सकते हैं ये साइड इफेट्स

1. गर्भावस्था और स्तनपान के दौरान हानिकारक हो सकता है

अश्वगंधा उन जड़ी बूटियों में से एक है जो बच्चे को नुकसान पहुंचा सकती है या गर्भावस्था को समाप्त कर सकती है. स्लोन-केटरिंग मेमोरियल कैंसर सेंटर की रिपोर्ट के अनुसार, अश्वगंधा गर्भपात को प्रेरित कर सकता है. जड़ी बूटी गर्भपात का भी कारण हो सकती है. इसलिए, अपनी सुरक्षा का ध्यान रखते हुए इसके उपयोग से बचने की कोशिश करें.

2. हो सकता है लिवर डैमेज

अश्वगंधा युक्त वाणिज्यिक हर्बल उत्पादों को लेने वाले मरीजों ने लीवर की समस्याओं को अनुभव किया है. हालांकि, इस संदंर्भ में ये जड़ी बूटी किस तरह से काम करती है, इसका पता अभी तक नहीं लगाया जा सका है.

टमाटर के फायदे और नुकसान

3. बहुत अधिक शुगर को गिरा सकता है

स्टडीज में पाया गया है कि अश्वगंधा खून में शुगर के स्तर को गिरा देता है. इसका मतलब है कि शुगर की समस्या वाले किसी व्यक्ति के लिए अश्वगंधा लाभकारी नहीं है. ऐसा भी हो सकता है कि अश्वगंधा के सेवन से इंसान का शुगर काफी अधिक कम हो जाए, जिससे अन्य समस्याएं हो सकती हैं.

4. हाइपरथायरायडिज्म को बढ़ा सकता है

अश्वगंधा थायराइड हार्मोन कॉन्सर्नट्रेशन्शन्स को बढ़ा देता है. इसलिए, हाइपरथायरायडिज्म वाले लोग अवांछनीय लक्षणों का अनुभव कर सकते हैं. हाइपरथायरायडिज्म एक ऐसी स्थिति है जो सीरम में पहले से ही थायराइड हार्मोन के अधिक स्तर के कारण होती है.

हाइपोथायरायडिज्म (अंडरएक्टिव थायरॉयड) के निदान वाले व्यक्तियों को भी अश्वगंधा लेने से पहले अपने चिकित्सक से परामर्श करना चाहिए.

5. ऑटोइम्यून रोग को बढ़ा सकता है

अश्वगंधा का एक्स्ट्रेक्ट इम्यून सिस्टम को बूस्ट करता है. हालांकि, ये चीज उन लोगों के लिए समस्या पैदा कर सकती है, जिन्हें ऑटोइम्यून रोग जैसे कि संधिशोथ, ल्यूपस और मल्टीपल स्कोलोसिस है. ऑटोइम्यून बीमारी के इलाज के लिए ली जाने वाली दवाइयां इम्यून सिस्टम की क्षमता को कम करती हैं और ऐसे में अश्वगंधा का सेवन करने से उनके लिए समस्या उत्पन्न हो सकती है.

6. गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल समस्या पैदा कर सकता है

अधिक मात्रा में अश्वगंधा का सेवन करने से आपो गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल की समस्या हो सकती है. इस वजह से जिन लोगों के पेट में अल्सर है, उन्हें इस जड़ीबूटी के सेवन से बचना चाहिए. हालांकि, कुछ लोगों में अश्वगंधा का सेवन करने से कब्ज की समस्या भी देखी गई है. अश्वगंधा के सेवन से दस्त भी हो सकते हैं.

7. चक्कर आना

चूहों पर अश्वगंधा से किए गए अध्ययन में पाया गया है कि इसमें कुछ रिलेक्सिंग प्रोपर्टीज होती हैं, जिससे चक्कर आने लगते हैं. इस वजह से नींद न आने की समस्या से परेशान लोग यदि इसका सेवन करते हैं तो उन्हें अधिक नींद आ सकती है.

अध्ययनों ने अश्वगंधा के नींद लाने वाले गुणों की भी पुष्टि की है. सिडेटिव्स के साथ इसका सेवन करने से आपको काफी अधिक नींद आ सकती है इसलिए इसे लेने से पहले अपने डॉक्टर से संपर्क करें.

8. एलर्जी

कुछ अध्ययनों में पाया गया है कि अश्वगंधा के सेवन से कुछ लोगों को एलर्जी हो सकती है. इसमें स्किन रैश, खारिश, इंफ्लामेशन, छाती में दर्द या फिर सांस लेने में दिक्कत आदि शामिल है. नाइटशेड से एलर्जी वाले लोगों को अश्वगंधा से भी एलर्जी हो सकती है. हालाँकि, हमें इस पर और अधिक शोध की आवश्यकता है.

9. बुखार

अश्वगंधा के उपयोग से कुछ व्यक्तियों में शरीर का तापमान बढ़ सकता है. हालांकि, यह कैसे होता है, यह समझना अभी बाकी है. कहा जाता है कि शरीर का तापमान कुछ ही दिनों में सामान्य हो जाता है. इस पहलू की जानकारी अपर्याप्त है. यदि किसी भी कारण से आपके शरीर का तापमान बढ़ा हुआ है, तो अश्वगंधा लेने से पहले अपने चिकित्सक से परामर्श करें.

इन बातों का रखें ध्यान

यह जरूरी है कि आप सही तरीके और सही मात्रा में अश्वगंधा का सेवन करें. इस वजह से मेडिकल एडवाइज को जरूर फॉलो करें. अश्वगंधा का सेवन करते वक्त इन सावधानियों का भी रखें ध्यान

- अश्वगंधा जड़ का अर्क केवल एक पूरक के रूप में इस्तेमाल किया जाना चाहिए.
- भोजन के साथ अश्वगंधा लेने की सलाह दी जाती है या आप इसे नाश्ते के साथ भी ले सकते हैं और पूरे गिलास पानी के साथ.
- चूंकि अश्वगंधा कुछ दवाओं के प्रभाव को बढ़ा सकता है, इसलिए दवाओं की समीक्षा करना महत्वपूर्ण है जो आप इसका सेवन करने से पहले कर रहे हैं.
- जो लोग अश्वगंधा का उपयोग करने के बाद पेट की बीमारियों का अनुभव करते हैं, उन्हें अपने डॉक्टर से परामर्श करना चाहिए. अश्वगंधा की बड़ी खुराक से पेट खराब, दस्त और उल्टी हो सकती है.