अपने लिए समय कैसे निकालें – How To Make Time For Yourself In Hindi

अक्सर हम कहते हैं हमारे पास समय नहीं है, हम बहुत व्यस्त हैं। व्यस्तता को आधार बनाकर हम कह देते हैं कि मैं अपने लिए कुछ समय नहीं दे सकता। इस तरह हम स्वयं को बेचारा/बेचारी सा दिखा कर एक प्रकार की सहानुभूति लेने का प्रयास करते हैं। इस जीवन में यदि आपके लिए सबसे महत्वपूर्ण व्यक्ति कोई है तो वो आप स्वयं हैं। और अगर आपके पास अपने लिए ही समय नहीं, तो इससे बड़ी विडंबना क्या हो सकती है?
आइये, समझने का प्रयास करते हैं कि अपने लिए समय हम कैसे निकाल सकते हैं।

1. हर कार्य का समय निश्चित करें

अक्सर हम बहुत कुछ करना चाहते हैं। हम अच्छा दिखना चाहते हैं, अच्छा स्वास्थ्य चाहते हैं, अपने कार्यक्षेत्र में उन्नति चाहते हैं, अच्छे संबंध चाहते हैं, धन, सफलता, यश चाहते हैं। और ज़्यादातर देखने में आता है कि हम किसी भी एक चीज़ पर अपना ध्यान केंद्रित नहीं कर पाते। कहने का मतलब यह नहीं है कि ऊपर लिखी बातों में से आप किसी एक के ही के पीछे पड़ जाएं। नहीं!
पर अपनी एक दिनचर्या बनाएं तथा निश्चित करें कि किस चीज़ को आप अपना कितना समय देना चाहेंगे। वह दिनचर्या हर किसी के कार्यक्षेत्र के हिसाब से अलग अलग ही होगी। उदाहरणार्थ अगर आप एक गृहस्थ महिला हैं तो तय कर सकती हैं कि मुझे एक घंटा फिज़िकल एक्सरसाइज़ अथवा योग आदि के लिए देना है, आधा घंटा कुछ अध्ययन के लिए निकालना है, सात घंटे सोना है, एक घंटा मनोरंजन के लिए देना है तथा बाकी समय में अपने घर गृहस्थ की ज़िम्मेदारियों को पूरा करना है।
ध्यान रहे, कि यह दिनचर्या हर व्यक्ति के लिए भिन्न ही होगी। जैसे एक कामकाजी नौजवान की दिनचर्या, एक संन्यासी की दिनचर्या व एक राजनेता की दिनचर्या एक दूसरे से भिन्न भिन्न होंगी ही।
कहने का अभिप्राय है कि अगर आप हर कार्य के लिए समय निश्चित कर लेते हैं तो आपके पास बाकी किसी व्यर्थ की बात के लिए समय ही नहीं बचेगा।

2. पुस्तकों को साथी बनाएं

आज इंटरनेट के युग में पुस्तकें अपना स्थान मानो खो सा चुकी हैं। ज्ञान का विपुल भंडार हमारे पास है।
स्वामी विवेकानंद तो कहा करते थे कि जिस घर में सद्ग्रन्थ नहीं, वह शमशान के समान है। तो अच्छे विचारों को प्राप्त करने के लिए सद्ग्रन्थों को साथी बनाएं। गीता जब पढ़ें तो ऐसे पढ़ें कि भगवान मुझसे बोल रहे हैं। क़ुरआन का पाठ ऐसे करें मानो अल्लाह यह वचन मेरे लिए ही उच्चारित कर रहे हैं।
पूर्व में हो चुके महान व्यक्ति आज भी अपनी पुस्तकों में जीवित हैं। तो उनसे बात करें। व्हाट्सएप्प पर इधर से हेलो, उधर से हाय, क्या खाया, क्या पकाया, क्या मौसम, क्या मोदी जी, क्या राजनीति, ये सब बातों का भी अगर हम समय निश्चित कर लें तो हमें अपने लिए समय की कोई कमी नहीं महसूस होगी।

3. टीवी को अधिकतर बंद ही रखें

हममें से अनेक लोगों का अनुभव होगा कि टीवी अपने आपमें एक बहुत बड़ा टाइम किलर है। लोग कईं घंटे व्यर्थ के सीरियल्स अथवा न्यूज़ शोज़ में लगा देते हैं। ध्यान रहे, समय हमारे पास गिना चुना ही है। वह हम 'इडियट बॉक्स' में लगाएं या स्व निर्माण में लगाएं, यह हमारे हाथ में ही है। तो हमेशा के लिए ना सही, पर कुछ समय के लिए तो दिन में टीवी बंद ही रखें। आपको स्वयं के लिए काफी समय मिलेगा।

4. अपना लक्ष्य निर्धारित करें

सबसे महत्वपूर्ण बात है कि हम चाहते क्या हैं। अपने जीवन से हमारी क्या आकांक्षा है। आपका लक्ष्य चाहें भौतिक है या आध्यात्मिक है या मिला जुला है, पर स्पष्ट होना चाहिए। और अगर लक्ष्य स्पष्ट है तो फिर आगे उस पर काम करने के रास्ते भी स्वतः मिलेंगे। एक बार लक्ष्य तय हो जाये, तो फिर उस पर काम करते करते आपके पास और अन्य बेकार बातों के लिए कुछ समय नहीं होगा।
तो आइये, अपने लिए समय निकालें व जीवन को स्वस्थ, प्रसन्न व खुशहाल बनाएं।
और पढ़ें

Copyright © 2019, Gyan Samadhan All Rights Reserved.