बकरीद 2020: क्यों मनाई जाती है ईद-अल-जुहा, इस ईद इन मैसेज के साथ दें मुबारकबाद | Bakrid Significance, Importance, Wishes and Quotes in Hindi

Bakrid 2020: मीठी ईद के बाद बकरीद (Bakrid) मुस्लिमों का दूसरा सबसे प्रमुख त्योहार है. इस्लामिक कैलेंडर के अनुसार रमजान के महीन के खत्म होने के 70 दिन बाद बकरीद मनाई जाती है. इस साल बकरीद 1 अगस्त 2020 को मनाई जा रही है. हालांकि, कोरोनावायरस महामारी (Coronavirus Pandemic) के चलते लोगों को बकरीद भी मीठी ईद की तरह अपने घरों में ही मनानी पड़ेगी. बता दें, बकरीद को ईद-उल-अजहा (Eid-Ul-Adha) और ईद-अल-जुहा (Eid-Al-Adha) भी कहा जाता है. तो चलिए आपको बताते हैं कि बकरीद क्यों मनाई जाती है और इसे कैसे मनाया जाता है.

बकरे की देते हैं कुर्बानी

बकरीद के मौके पर मुस्लिम अपने घर में पल रहे बकरे की कुर्बानी देते हैं. वहीं, जिन लोगों के पास बकरा नहीं होता है वो ईद से कुछ दिन पहले ही बकरा खरीद लेते हैं और उसे अपने घर में रखते हैं. इसके बाद ईद के दिन वो उसकी कुर्बानी देते हैं. बता दें, इस गोश्त के तीन हिस्से किए जाते हैं. इनमें से एक हिस्सा मुस्लिम अपने लिए रखते हैं, एक हिस्सा आस-पड़ोस या रिश्तेदारों में बांटा जाता है और एक हिस्सा गरीबों और जरूरतमंदों को दिया जाता है.

क्यों मनाते हैं बकरीद

बकरीद को कुर्बानी के जज्बात को सलाम करने के लिए मनाया जाता है. दरअसल, पैगंबर मोहम्मद के पूर्वज इब्राहिम द्वारा दी गई कुर्बानी की याद में बकरीद मनाई जाती है. माना जाता है कि इब्राहिम की इबादत से खुदा खुश हो गए थे और उनकी दुआओं को कबूल किया था. इसके बाद खुदा ने इब्राहिम की परीक्षा ली थी और उनसे उनकी सबसे कीमती और प्यारी चीज मांगी थी.

माना जाता है कि खुदा द्वारा इब्राहिम से सबसे कीमती चीज की कुर्बानी देने की मांग किए जाने पर उन्होंने अपने बेटे की कुर्बानी देने का फैसला किया था. हालांकि, इब्राहिम ने अपने बेटे की कुर्बानी देने से पहले आंखों पर कपड़ा बांध लिया था, ताकि उनकी भावनाएं उनके आड़े न आए लेकिन जब उन्होंने आंखे खोली तो उन्होंने अपने बेटे को सही सलामत देखा और उसकी जगह पर एक बकरे का सिर कटा हुआ देखा.

ईद और बकरीद में क्या अंतर है

इस्लामिक साल में दो ईद मनाई जाता है. इसमें से एक ईद-उल-जुहा है और दूसरी ईद-उल-फितर. ईद-उल-फितर को मीठी ईद के नाम से भी जाना जाता है. रमजान के खत्म होने के बाद मीठी ईद मनाई जाती है. हालांकि, बकरीद को हज की समाप्ति के मौके पर मनाया जाता है. बकरीद को इस्लामिक कैलेंडर के अंतिम महीने के 10वें दिन यानी कि चांद दिखाई देने के 10वें दिन मनाया जाता है.

बकरीद मैसेज

हवा को खुशबू मुबारक
फिजा को मौसम मुबारक
दिलों को प्यार मुबारक
आपको हमारी तरफ से बकरीद मुबारक

खुदा आपको अता करें
सेहत, रहमत, नेमत, इज्जत, दौलत,
शोहरत, सलामति और खुशियां
बकरीद की मुबाकरबाद

तमन्ना आपकी सब पूरी हो जाएं,
हो आपका मुकद्दर इतना रोशन की
आमीन कहने से पहले ही
आपकी हर दुआ कबूल हो जाए

कोई इतना चाहे हमें तो बताना,
कोई तुम्हारी फिक्र करे तो बताना,
ईद मुबारक तो हर कोई कह देगा,
कोई हमारे अंदाज में कहे तो बताना

चुपके से चांद की रोशनी छू जाए आपको,
धीरे से ये हवा कुछ कह जाए आपको,
दिल से जो चाहते हो मांग लो खुदा से,
हमारी दुआ है इस ईद सब मिल जाए आपको

Copyright © 2019, Gyan Samadhan All Rights Reserved.